Admission Open Now ( )

  • First Slide
    Yoga Training
  • First Slide
    S7
  • First Slide
    Shilpkala
  • First Slide
    Yogashan Sports Association
  • First Slide
    Braksharopan Karyakram
  • First Slide
    Yogashan
  • First Slide
    Arya Samaj Dadri Karykram
  • First Slide
    Bharat Vikas Parishad
  • First Slide
    Yogashan Certificate Provided
  • First Slide
    Kanya Gurukul Mahavidyalaya
  • First Slide
    Computer Training
  • First Slide
    Yogashan
  • First Slide
    Yagya
  • First Slide
    Railly
  • First Slide
    Yogashan
  • First Slide
    Yog Training
  • First Slide
    Yog Training
  • First Slide
    Yog Training
  • First Slide
    Positive Thinking
  • First Slide
    Kanya Gurukul Mahavidyalaya
  • First Slide
    S3
  • First Slide
    S4
  • First Slide
    S5
  • First Slide
    S6
  • First Slide
    S1
  • First Slide
    S2

गुरुकुल शिक्षा की विशेषताएँ

ACHIEVE YOUR GOALS


Read More

Online Admission

We are happy to tell you that we are accepting new addmissions for new batch so dont delay get enrolled asap ...

Find out More!

Deposit Fees

We are happy to tell you that we are accepting new addmissions for new batch so dont delay get enrolled asap ...

Pay Now!
SMLAIC

Welcome to
KANYA GURUKUL MAHAVIDYALAYA

We are eager to give you best Education and style.

जिस समय भारत में पश्चिमी सभ्यता का बोल बाला बढ़ रहा था और अंग्रेजी राज्य की नींव पूरी तरह जम चुकी थी। भारतवासी बुरी तरह अंधविश्वासों और रूढ़ियों के शिकार बने हुए थे। उस समय में ऋषिवर दयानन्द सरस्वती का जन्म हुआ। ऋषि ने भारत की नाड़ी परीक्षा की और अपनी दिव्य दृष्टि से स्थिति का निरीक्षण कर भारत को रूढ़ि और अंधविश्वास से ऊपर उठाने का प्रयास किया। उन्हीं यत्नों में एक शिक्षा का प्रसार था। ऋषिदयानन्द प्राचीन भारतीय संस्कृति के अनन्य प्रशंसक थे। 'वेदों की ओर लौटो' उनका नारा था। महर्षि दयानन्द ने अपना समस्त जीवन वेदों की शिक्षा के प्रचार-प्रसार में समर्पित कर दिया। ऋषि ने जहाँ जीवन के अन्य क्षेत्रों में अपना सुलझा हुआ दृष्टिकोण उपस्थित किया है, वहाँ शिक्षा के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण दिशा दी है, उनकी यह निश्चित धारणा थी कि गुरुकुल शिक्षा प्रणाली तथा आर्ष पाठविधि ही वह मार्ग है, जिस पर चलकर मनुष्य का शारीरिक, मानसिक एवं आत्मिक विकास हो सकता है। स्वामी दयानन्द जी के कर्मठ अनुयायियों ने सुधार के अन्य कार्यों के साथ शिक्षा प्रसार का बीड़ा भी उठाया और गुरुकुल स्कूल एवं कालेज खोले। यह गुरुकुल भी उसी माला का एक मोती है।

Read More

Words from Our Leaders

Manager
Manager

Message from Manager

Read More »

Today's Birthday

Our best wishes for students!

Birthday

No B'Days
Today